20 साल से व्हीलचेयर पर हैं पिता, मां चला रहीं घर… अब क्रिकेट की दुनिया का सितारा बना बेटा

New Delhi: विदर्भ की तरफ से खेलने वाले हरफनमौला खिलाड़ी आदित्य सरवटे का बचपन बेहद ही मुश्किलों में बिता है। दूसरी रणजी ट्रॅाफी का खिताब विदर्भ की टीम को दिलाने में अहम हिस्सा निभाने वाले आदित्य सरवटे बताते हैं कि क्रिकेट मुझे विरासत में मिली, लेकिन आज मैं जो कुछ भी हूं वो सब कुछ मां ने ही किया है। उन्होंने नौकरी भी की। साथ ही पापा का भी ध्यान रखा। वहीं इस दौरान उन्होंने मेरी देखरेख में भी कोई भी कसर नहीं छोड़ी

मैं जब महज तीन साल का था उसी दौरान मेरे पिता का ए’क्सीडेंट हो गया था, लेकिन मेरी मां ने हार नहीं मानी और उनका जो नजरिया रहा। वहीं मेरे अंदर भी है। गौरतलब है कि 29 वर्षीय आदित्य सरवटे के पिता आनंद सरवटे भी एक क्रिकेटर रह चुके हैं। उन्होंने नागपुर विश्वविद्धालय और पंजाब नेशनल बैंक की तरफ से क्रिकेट खेला है, हालांकि जब आदित्य तीन साल के थे। उसी दौरान उनके पिता आनंद सरवटे का एक्सी’डेंट हो गया था, जिसकी वजह से उन्हें करीब 20 साल से व्हीलचेयर से चलना पड़ रहा है।

वहीं आदित्य के पिता के अलावा ताऊ चंदू सरवटे भी भारतीय टीम के स्टार खिलाड़ी रह चुके हैं। उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में भारत की तरफ से कुल नौ टेस्ट मैच खेले हैं। इसके अलावा सीके नायडू और मुश्ताक अली जैसे खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम भी साझा कर चुके हैं, हालांकि अब 29 वर्षीय आदित्य सरवटे अब अपने खानदान का नाम रोशन कर रहे हैं। इसके अलावा उन्हें पूरी उम्मीद भी है। आने वाले समय में वे भारतीय टीम तक का भी सफर पूरा करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *