जब वर्ल्डकप सेमीफाइनल में टीम इंडिया के साथ क्रिकेट भी हुआ शर्मिंदा, जानें क्या थी वो घटना

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India
New Delhi: भारत में जब भी खेल की बात की जाती है तो सबसे पहले क्रिकेट (Cricket) हमारे दिमाग में घूमने लगता है। क्रिकेट के प्रति दीवानगी हमारे देश में हमेशा ही देखने को मिलती है। वर्ल्डकप और इंडिया-पाकिस्तान के मैच के दौरान तो भारतीय फैंस कुछ अलग ही नजर में आते हैं।

भारतीय फैंस की क्रिकेट के प्रति इस दीवानगी को देखते हुए भारतीय क्रिकेट गवार्निंग बॉडी BCCI ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की शुरुआत की। बीते 11 सालों से IPL ने कई स्टार खिलाड़ी तो दिए ही साथ ही एक त्योहार की तरह हर घर में जगह बनाने में कामयाब भी हुआ है।

लेकिन क्या आपको पता है कि भारतीय क्रिकेट में एक समय ऐसा भी आया जब भारतीय फैंस के जुनून ने देश और क्रिकेट दोनों का शर्मिंदा किया था। जी हाँ, और वो घटना आज ही दिन यानी 13 मार्च 1996 के वर्ल्डकप (1996 World Cup) सेमीफाइनल में घटी थी, जिसे आज भी इस दिन को भारतीय क्रिकेट का काला दिन माना जाता है। भारत के अलावा इस दिन को श्रीलंकाई टीम भी जरूर याद करती है, क्योंकि इसी मैच की बदौलत श्रीलंका वर्ल्डकप फाइनल में पहुंची और इकलौता खिताब अपने नाम किया था।

दरअसल, यह मैच था भी कुछ ऐसा। कोलकाता के ईडन गार्डन (Eden Gardens) में 13 मार्च 1996 को खेले गए वर्ल्डकप के पहले डे नाइट सेमीफाइनल (India vs Sri Lanka 1996 World Cup semi-final) में भारत ने सपाट पिच पर टॉस जीता, लेकिन मेहमान टीम श्रीलंका को पहले बल्लेबाजी का न्योता दिया। श्रीलंका ने पिच का भरपूर फायदा उठाया और 8 विकेट पर 251 रन बनाए। वहीं लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया ने 34.1 ओवर में 120 रन पर 8 विकेट गंवा दिए।

क्रिकेट एक्सपर्ट और भारतीय फैंस को हार सामने दिखने लगी थी और ऐसे में वहां फैंस ने ऐसा कुछ कर डाला कि मैच रैफरी ने उसी समय मैच रोककर श्रीलंका को विजेता घोषित कर दिया। क्रिकेट के इतिहास का यह शायद पहला और आखिरी मैच था, जिसका नतीजा निकले बिना किसी टीम को विजेता घोषित किया हो। वहीं, श्रीलंका ने फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को हराकर पहली बार वर्ल्डकप का खिताब जीता।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

ऐसी थी भारतीय पारी

सचिन तेंदुलकर और नवजोत सिद्धू पारी का आगाज करने मैदान पर आए, लेकिन श्रीलंका बॉलिंग अटैक के सामने भारतीय बल्लेबाजों ने घुटने टेक दिए और सिर्फ तेंदुलकर 65 ही अधिक समय तक मैदान पर टिक पाए। संजय मांजरेकर 25 रन और विनोद कांबली ने नाबाद 10 रन बनाए। इनके अलावा कोई भी बल्लेबाज 10 रन से अधिक नहीं बना पाया पाया।

भारतीय टीम की ऐसी हालत देखकर फैंस अपना आपा खो बैठे और स्टेडियम में हुंडदंग मचाने लगे। बोतलें, कैन, प्लास्टिक बैग और जो कुछ भी उनके हाथ में था वह सब मैदान पर फेंकने लगे। इतना ही नहीं फैंस ने स्टेडियम में आग भी लगा दी। इस घटना के कुछ मिनटों बाद मैच रैफरी क्लाइव लॉयड ने श्रीलंका को विजेता घोषित किया।

रोते हुए कांबली मैदान से आए थे बाहर

जब यह सब हुआ, उस समय विनोद कांबली और अनिल कुंबले मैदान पर थे और श्रीलंका को विजेता घोषित करके के बाद कांबली रोते हुए मैदान से बाहर आए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *