फिल्मी गलियारों में नवाब पटौदी दे बैठे दे दिल, धर्म की दीवार लांघकर शर्मिला को बनाया था बेगम

New Delhi : इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मंसूर अली खान पटौदी का आज 77वां जन्मदिन है। भोपाल के नवाब खानदान में 5 जनवरी 1941 को पैदा हुए मंसूर को मैदान पर ‘टाइगर’ कहा जाता था। उनकी जिंदगी किसी बॉलीवुड फिल्म से कम नहीं है। उन्होंने एक दर्दनाक हादसे में अपनी एक आंख की रोशनी खो दी थी। नवाबों वाली जिंदगी जीने वाले मंसूर का दिल फिल्मी गलियारों में धड़का था, उन्होंने मशहूर एक्ट्रेस शर्मिला टैगोर से शादी की थी।

तब के दिनों में शर्मिला टैगोर की गिनती सबसे खूबसूरत एक्ट्रेसेज में होती थी। जितनी अच्छी मंसूर अली खान पटौदी के क्रिकेट करियर की कहानी है उतनी ही बेमिसाल उनकी और बॉलीवुड एक्ट्रेस शर्मिला टैगोर की लवस्टोरी है। बता दें कि शर्मिला टौगोर और मंसूर अली की पहली बार दिल्ली में मिले थे। पटौदी को पहनी नजर में ही शर्मिला टैगोर से प्यार हो गया था। लेकिन उन दिनों उनका धर्म उनकी प्यार की कहानी के आड़े आ रहा था, लेकिन इश्क इतना परवान चढ़ा था कि उन्होंने धर्म की परवाह न करते हुए एक दूसरे के हो गए।

सब कहते थे कि ये रिश्ता नहीं चलेगा लेकिन दोनों ने दुनिया को गलत साबित कर दिया था। और लोगों को निकाह कर दे दिखाया। पटौदी ने एक बार अपनी गर्लफ्रेंड शर्मिला को गिफ्ट में रेफ्रिजरेटर दे दिया था। क्रिकेट के मैदान में मंसूर अली खान अपनी प्रेमिका शर्मिला का स्वागत छक्के मार के किया करते थे। जिस दिशा में शर्मिला बैठती थीं, मंसूर अली खान वहीं छक्का मारते थे। शर्मिला ने मंसर से शादी करने के लिए धर्म भी बदला था।

इस्लाम धर्म अपनाकर शर्मिला टैगोर आयशा सुल्तान बन गईं थीं और साल 1969 के 27 दिसंबर तारीख को दोनों ने निकाह कर लिया था। शर्मिला और मंसूर के तीन बच्चे हुए- सैफ अली खान, सोहा अली खान और सबा अली खान।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *