भारत को पहली जीत दिलाने वाले कप्तान थे विजय हजारे, पद्माश्री सम्मान पाने वाले थे पहले क्रिकेटर

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India
New Delhi: विजय सैमुअल हजारे (Vijay Samuel Hazare) उर्फ विजय हजारे वो भारतीय खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपनी कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम को पहली जीत दिलाई साथ ही अपनी खेल का लोहा भी मनवाया। आज हम इस दाहिने हाथ के बल्लेबाज और मध्यम तेज गेंदबाज का 104वां जन्मदिन मना रहे हैं।

जन्म 11 मार्च 1915 को सांगली मुंबई में जन्में हजारे (Vijay Samuel Hazare) ने अपनी कप्तानी में भारत को टेस्ट-क्रिकेट में प्रथम सफलता दिलाई। 1960 में उन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया। विजय हजारे, ऐसे पहले भारतीय खिलाड़ी हैं जिनकी कप्तानी में भारत को पहली जीत मिली, और अपने पहले ऑस्ट्रेलिया दौरे पर मैच की दोनों पारियों में शतक जमाया। ये उपलब्धियां भारत के पूर्व कप्तान विजय हजारे के नाम दर्ज है।

भारत को टेस्ट दर्जा मिलने के करीब 20 साल बाद 25वें टेस्ट में जीत मिली थी। हजारे की कप्तानी में खेलते हुए 1952 में टीम इंडिया ने चेन्नई (मद्रास) में इंग्लैंड के खिलाफ एक पारी और आठ रन से जीत दर्ज की थी।

कंगारुओं पर पड़े  थे भारी

ऑस्ट्रेलिया की जिन पिचों पर टीम इंडिया के बल्लेबाज आज भी बेबस दिखते हैं, वहीं 1948 में विजय हजारे ने दोनों पारियों में शतक जमाकर कंगारुओं की हवा निकाल दी थी। एडिलेड टेस्ट में हजारे ने पहली पारी में 116 और दूसरी में 145 रनों की पारी खेली थी। हालांकि भारत यह मैच एक पारी और 16 रनों से हार गया था, लेकिन हजारे की बल्लेबाजी देखकर विपक्षी कप्तान सर डॉन ब्रेडमैन भी अचंभित रह गए थे।

घरेलू मैचों के शहंशाह

विजय हजारे ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय और घरेलू दोनों मैचों में अंत तक शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने 30 टेस्ट मैचों की 52 पारियों में 6 बार नाबाद रहते हुए 47.65 की औसत से कुल 2,192 रन बनाए। इसमें नाबाद 164 रन उनका सर्वाधिक स्कोर रहा है। हजारे ने टेस्ट मैचों में 7 शतक एवं 9 अर्धशतक लगाए हैं।

इसके अलावा हजारे ने 238 प्रथम श्रेणी मैचों में 58.38 की औसत से कुल 18,740 रन बनाए हैं। इसमें नाबाद 316 रन उनका सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर रहा है। हजारे ने प्रथम श्रेणी मैचों में 60 शतक एवं 73 अर्धशतक लगाए हैं। हजारे ने घरेलू मैचों में पहला तिहरा शतक लगाया था।

गेंदबाजी में भी हजारे का प्रदर्शन लाजवाब था। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 61.00 की औसत से कुल 20 विकेट भी चटकाए थे। साथ ही प्रथम श्रेणी मैचों में 595 विकेट झटके थे।

भारतीय क्रिकेट के अनमोल रत्न विजय हजारे ने 18 दिसंबर 2004 में इस दुनिया को अलविदा कह दिया। इस दिग्गज खिलाड़ी के सम्मान में भारत में घरेलू स्तर पर हर साल विजय हजारे टूर्नामेंट होता है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar, Live India

विजय हजारे के बारे में खास बातें

1: पहले भारतीय जिन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दो बार 300 रन बनाए।

2: पहले भारतीय जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जमाए।

3: पहले भारतीय जिन्होंने तीन टेस्ट मैच में लगातार शतक लगाए।

4: साल 1951-52 में अपनी कप्तानी में इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया को पहली जीत दिलाई।

5: जसू पटेल के साथ पद्मश्री से नवाजे गए पहले क्रिकेट।

6: सबसे पहले 1000 रन पूरे करने वाले भारतीय खिलाड़ी।

7: प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 595 विकेट चटकाए।

क्या है विजय हजारे ट्रॉफी

विजय हजारे ट्रॉफी को वनडे रणजी ट्रॉफी के नाम से भी जाना जाता है। ये टूर्नामेंट 2002-03 में डोमेस्टिक क्रिकेट के रूप में शुरू किया गया था। इस टूर्नामेंट में रणजी की सभी टीमें हिस्सा लेती हैं। ट्रॉफी का नाम दिग्गज भारतीय क्रिकेटर विजय हजारे के नाम पर रखा गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *